2019 चुनाव से पहले मोदी को लेकर ASIA के सबसे बड़े बैंक से आयी चौंकाने वाली रिपोर्ट, कांग्रेस के उड़े परखच्चे, चीन को लगा सदमा

नई दिल्ली : भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर पिछले कई सालों से कांग्रेस और उनके महान अर्थशास्त्री भ्रम फैला रहे हैं, कोई अर्थव्यवस्था को डूबता हुआ बताता है तो खुद मनमोहन इसे आर्थिक आपातकाल बताते हैं लेकिन बैंकों के NPA घोटाले पर वो तुरंत चुप्पी साध लेते हैं.

 

लेकिन झूठ और भ्रम के बादल सच के सूरज को ज़्यादा देर तक नहीं छिपा सकते. भारत आज चीन को पछाड़ते हुए दुनिया की सबसे तेज़ गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बन चुका है. पिछले एक साल से लगातार वर्ल्ड बैंक, IMF , WEF , मॉर्गन स्टैनले , UN सब जगह से खुशखबरी आ रही हैं. तो वहीँ इस बीच 2019 चुनाव से पहले अब ASIA के सबसे बड़े बैंक से बेहद चौंकाने वाली रिपोर्ट आ रही है जो कांग्रेस की धड़कनों को रोक देगी.




2019 चुनाव से पहले एशिया के सबसे बड़े बैंक ने बड़ी ज़बरदस्त रिपोर्ट

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक मोदी के नेतृत्व में भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूती के साथ बढ़ रही है. भारतीय अर्थव्यवस्था में लगातार पकड़ती तेजी पर एक और वैश्विक संस्था ने मुहर लगाई है.

इस साल एक बार फिर भारत के नाम रहा ये मुकाम

एशिया डेवलोपमेन्ट बैंक (ADB) ने अपनी रिपोर्ट में भारत की आर्थिक वृद्धि दर मौजूदा वित्त वर्ष 2018-19 में 7.3 प्रतिशत जबकि अगले वित्त वर्ष 2019-20 में 7.6 प्रतिशत रहने का एलान किया है. इसके साथ ही एक बार फिर मोदी राज में भारत पूरे एशिया का सबसे तेज़ गति से बढ़ती अर्थव्यवस्था के दर्जे पर कायम रहेगा.

चीन को लेकर भी आयी रिपोर्ट , नहीं रहा किसी को मुँह दिखाने के लायक

अब आइये इसी बड़े बैंक की चीन को लेकर रिपोर्ट देख लेते हैं. चीन के बारे में ADB की रिपोर्ट में कहा गया है कि जहाँ भारत लगातार हर साल प्रगति करता जा रहा है वहीँ चीन हर साल लगातार लुढ़कता जा रहा है. ADB बैंक अनुसार चीन की आर्थिक वृद्धि 2017 में 6.9 प्रतिशत थी. इसके बाद इस साल ये घटकर 6.6 प्रतिशत पर आ जाएगी. यही नहीं अगले साल 2019 में और ज़्यादा घटकर मात्र 6.4 प्रतिशत रह जाएगी.






छायी हुई है आर्थिक मंदी

ये केवल चीन का ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया का यही हाल है. पूरे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ज़बरदस्त आर्थिक मंदी छायी हुई है. अमेरिका, जापान, कोरिया सभी इस आर्थिक भूचाल में डूबे जा रहे हैं. बड़े व्यापारियों को रोज़ अरबों का घाटा हो रहा है लेकिन इसके उलट बेहत हैरतअंगेज़ तरीके से भारत हर साल तेज़ी से प्रगति करता जा रहा है.

रफ्तार की पटरी पर दौड़ेगी भारतीय अर्थव्यवस्था- फिच

इससे पहले वैश्विक रेटिंग एजेंसी फिच ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर अगले वित्त वर्ष 2018-19 में 7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है. इसमें कहा गया है कि ग्रामीण क्षेत्र में मांग बढ़ने से देश की आर्थिक रफ्तार को सबसे अधिक बल मिलेगा. इसके साथ ही वित्त वर्ष 2019-20 में आर्थिक वृद्धि दर बढ़कर 7.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया है.

दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था- आईएमएफ

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने एक बार फिर दोहराया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था 2018 में 7.4 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी। आईएमएफ ने उम्मीद जताई है कि नोटबंदी और जीएसटी के बावजूद भारत उभरती अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेजी से विकास करेगा.

ब्रिटेन-फ्रांस को पछाड़ दुनिया की टॉप 5 अर्थव्यवस्था में होगा भारत

सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च (सीईबीआर) की रिपोर्ट के अनुसार भारत 2018 में ब्रिटेन और फ्रांस को पछाड़कर पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की तैयारी कर रहा है। सीईबीआर के डिप्टी चेयरमैन डोगलस मैकविलियम ने कहा कि वर्तमान में अस्थायी असफलताओं के बावजूद भारत की अर्थव्यवस्था फ्रांस और ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था के बराबर टक्कर दे रही है.




भारत कई ग्लोबल शॉक से बचा हुआ है – जापानी वित्तीय सेवा कंपनी नोमुरा

जापानी वित्तीय सेवा कंपनी नोमुरा ने भारत की ग्रोथ के बारे में पॉजिटिव रिपोर्ट दी थी। नोमुरा में इमर्जिंग मार्केट्स इकनॉमिक्स के हेड रॉबर्ट सुब्बारमण का कहना था कि भारत कई ग्लोबल शॉक से बचा हुआ है और अगले साल उसकी ग्रोथ 7.5 पर्सेंट रह सकती है।

भारत अगले 10 वर्षों में दुनिया में सबसे तेज रफ्तार से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्थाओं में शुमार हो जाएगा। वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी मॉर्गन स्टेनली ने दावा किया है कि डिजिटलीकरण, वैश्वीकरण और सुधारों के चलते आने वाले दशक में भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था होगी.






भारत बना विदेशी कंपनियों के लिए पसंदीदा जगह- चीन

यहाँ तक की खुद चीन भी अब भारत की तारीफ करने के लिए मजबूर हो रहा है. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि भारत विदेशी कंपनियों के लिए खूब आकर्षण बन रहा है। अखबार ने एक लेख में कहा है कि कम लागत में उत्पादन धीरे-धीरे चीन से हट रहा है. मोदी सरकार ने बाजार के एकीकरण के लिए जीएसटी लागू किया है. लेख में कहा गया है कि आजादी के बाद के सबसे बड़े आर्थिक सुधार जीएसटी से फॉक्सकॉन जैसी बड़ी कंपनी भारत में निवेश करने के अपने वादे के साथ आगे बढ़ेंगी.

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *