भारत ने तोड़ा रिकॉर्ड ! इस बार भारत ने पूरे किये पूरे 500…

ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में इस बार 4 से 15 अप्रैल तक चले कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने शानदार प्रदर्शन कर देशवासियों का सिर गर्व से ऊँचा कर दिया. खेल विशेषज्ञों का मानना है कि खेल प्रतिभाओं के मिलते प्रोत्साहन की वजह से भारत का प्रदर्शन लगातार सुधरा है. यही कारण है कि कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के पदकों की संख्या हर बार बड़ी है. पिछली बार के मुकाबले भारत ने बहुत ही शानदार प्रदर्शन के साथ मेडल भी ज्यादा जीते हैं.



जी हाँ आपको बता दें कि इस बार कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय खिलाड़ियों का शुरू से अंत तक दबदबा बना रहा. इस बार पिछली बार से दो मेडल भी ज्यादा जीते हैं. पिछली बार कॉमनवेल्थ गेम्स ग्लास्गो में हुए थे. कहीं न कहीं मोदी सरकार का खेलों को लेकर जागरूकता और बढ़ावा देना भी सफल रहा. वहीँ मोदी सरकार ने इसकी अहमियत को समझते हुए खेलों को लेकर बहुत ही बड़ा फैसला भी लिया. मोदी सरकार से पहले ऐसा काफी नहीं हुआ कि कोई भारतीय खिलाड़ी खेल मंत्री बना हो. मोदी सरकार ने भारतीय खिलाड़ियों के हित में यह फैसला भी लिया.

ग्लास्गो गेम्स में भारत ने कुल 64 मेडल हासिल किए थे. इस बार के गोल्ड कोस्ट गेम्स में भारत ने मेडल की संख्या बढ़ाते हुए उसमें इजाफा किया और 66 मेडल हासिल किए. इसमें 26 गोल्ड मेडल शामिल हैं. प्रतियोगिता के आखिरी दिन भारत को कुल 7 मेडल मिले. इसके साथ ही भारत ने अब तक कॉमनवेल्थ गेम्स में अपने 500 मेडल पूर कर लिए. भारत ने कॉमनवेल्थ गेम्स में अब तक कुल 503 मेडल जीत लिए हैं. अगर आजादी के पहले की बात करें तो ये संख्या 505 हो जाती है.




आजाद होने के बाद भारत ने पहली बार सन 1954 में इन खेलों में भागीदारी की थी. इससे पहले 1934 और 1938 में भारत इन खेलों में हिस्सा ले चुका था. इनमें 1934 में उसे 2 मेडल मिले थे. आजादी के बाद 1954 में भारत को कोई मेडल नहीं मिला. 1958 के दूसरे गेम्स में भारत को 2 गोल्ड सहित 3 मेडल हासिल हुए थे. पहली बार 1990 में ऑकलैंड में हुए खेलों में भारत के गोल्ड की संख्या दहाई के आंकड़े के पार गई थी. इन खेलों में भारत ने 13 गोल्ड सहित 32 पदक हासिल किए थे. भारत ने आजादी के बाद अब तक कुल 15 कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लिया है. इसमें उसने 181 गोल्ड, 175 सिल्वर और 148 ब्रॉन्ज के साथ 502 मेडल जीते हैं.

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *