कर्नाटक चुनाव के लिए बीजेपी ने ही कराया सर्वे, परिणाम देख उड़े होश, मोदी और शाह हुए परेशान…

कर्नाटक विधानसभा चुनाव की सियासी जंग 2019 का सेमीफाइनल मानी जा रही है. कांग्रेस सिद्धारमैया के मजबूत नेतृत्व के चलते आत्मविश्वास से भरी है. वहीं बीजपी के आंतरिक सर्वे ने भी भगवा पार्टी को बड़ी राहत दी है. सर्वे के मुताबिक कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे का मुकाबला है. इससे पहले इंडिया टुडे के सर्वे में भी बीजेपी-कांग्रेस के बीच महज 2 फीसदी वोटों का अंतर सामने आया है. इससे साफ है कि कर्नाटक की राजनीतिक लड़ाई एकतरफा नहीं, बल्कि कांटे की है.

बीजेपी का आंतरिक सर्वे

टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी ने एक पेशेवर एजेंसी द्वारा कर्नाटक विधानसभा चुनाव की जमीनी हकीकत समझने के लिए सर्वे कराया. पार्टी द्वारा कराए गए सर्वे के मुताबिक राज्य की सियासी लड़ाई एकतरफा नहीं बल्कि बीजेपी-कांग्रेस के बीच कांटे का मुकाबला है. इससे बीजेपी को राज्य में माहौल अपने पक्ष में बनाने का मौका मिल गया है.




मोदी-शाह से उम्मीद

सूत्रों के मुताबिक बीजेपी के आंतरिक सर्वे के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित केंद्रीय नेताओं के चुनाव प्रचार में उतरने की मांग बढ़ी है. पीएम मोदी ने जिस प्रकार गुजरात चुनाव में आखिरी दौर में उतरकर सियासी माहौल को पार्टी के पक्ष में बनाया था. उसी तर्ज पर कर्नाटक में भी प्रचार करने की संभावना मानी जा रही है. रविवार को बीजेपी मुख्यालय में केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में कर्नाटक के चुनाव प्रचार को धार देने की रणनीति बनाई गई.

बीजेपी के सर्वे में किसी को बहुमत नहीं

एक बीजेपी नेता ने कहा, पिछले कुछ महीनों में किए गए सर्वे में किसी भी पार्टी को स्पष्ट जीत मिलती नजर नहीं आ रही है. कुछ सर्वे में कांग्रेस को आगे दिखाया गया है और कुछ में बीजेपी को. हालांकि पार्टी के आंतरिक सर्वे के परिणाम को साझा नहीं किया गया है. लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि कर्नाटक जंग को एकतरफा जीतना बीजेपी के लिए आसान नहीं है.

जेडीएस किंग मेकर

उन्होंने कहा कि सर्वे के मुताबिक न तो बीजेपी और न ही कांग्रेस की सरकार बन रही है. ऐसे में एचडी देवेगौड़ा की अगुआई वाली जनता दल (एस) किंग मेकर की भूमिका में हो सकती है. उन्होंने कहा कि अभी भी समय है और हमें उम्मीद है कि हमारे स्टार प्रचारक, पीएम नरेंद्र मोदी के राज्य में एक पूर्ण अभियान शुरू करने के बाद राज्य का माहौल बदलेगा और बीजेपी अपने दम पर बहुमत हासिल करेगी.




गुजरात चुनाव के दौरान भी सियासी हालात बीजेपी के अनुकूल नहीं थे, लेकिन मोदी के चुनाव अभियान में उतरने के बाद माहौल बदला था और पार्टी ने जीत हासिल की थी. मोदी-शाह अभी कुछ दौरे कर चुके हैं. पार्टी ने उनकी कई रैलियों का प्रोग्राम बनाया है.

इंडिया टुडे का सर्वे

देश के सबसे बड़े न्यूज चैनल ‘आजतक’ इंडिया टुडे ग्रुप ने कार्वी इनसाइट्स के साथ ओपिनियन पोल किया. इसके मुताबिक कर्नाटक 2018 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी. कांग्रेस को राज्य की कुल 224 सीटों में से 90 से 101 सीटें मिलती दिख रही हैं. बीजेपी को 78 से 86 सीटें और जनता दल (एस) को 34 से 43 सीटें मिलती दिख रही हैं. वहीं अन्य को इस बार 4 से 7 सीटें मिलने का अनुमान है.

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *