ब्रेकिंग- कश्मीर को लेकर उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने किया हाहाकारी ऐलान, सेना बोली..

कश्मीर में आतंकियों, अलगाववादियों और रोहिंग्या मुस्लिमों के लिए प्रदर्शन करने वाले कान खोल कर सुन लें, अब देश में तुष्टिकरण वाली सरकार नहीं बल्कि एक राष्ट्रवादी सरकार है. पीएम मोदी के बाद अब नव-निर्वाचित उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी आतंकवाद को लेकर हल्ला-बोल दिया है. उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू की ये हुंकार सुन देशद्रोहियों के कान बहरे हो गए हैं.

आतंकवाद को बिना दया दिखाए कुचल दो !




वेंकैया नायडू ने कहा है कि आतंक फैलाने वालों को बिना दया दिखाए कुचल देना चाहिए, ऐसे असामाजिक तत्वों को हर तरह से ख़त्म कर दो. अब तक आप और हम इस देश में देखते आये थे कि सत्ता में जब कांग्रेस सरकार थी, तब तो आतंकियों के खिलाफ केवल निंदा करके ही काम चला लिया जाता था. पीएम मोदी के आने के बाद जब उन्होंने आतंकियों के खिलाफ सख्त फैसले लिए, तब तत्कालीन राष्ट्रपति सेकुलरिज्म की दुहाई देने लगते थे. उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी को तो मुस्लिम हमेशा खतरे में ही दिखाई देते रहे.

मगर अब वक़्त बदल गया है. उप-राष्ट्रपति नायडू ने साफ़ शब्दों में कहा है कि आतंकवाद मानवता का सबसे बड़ा दुश्मन है. उन्होंने कहा कि दुर्भाग्य से कुछ लोग आतंकवाद का इस्तमाल अपने राजनीतिक फायदे के लिए करते हैं.

उन्होंने कहा कि आतंकवाद मानवता का दुश्मन है और वो अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से अपील करते हैं, विशेष रूप से वकीलों और पेशेवर लोगों से अपील करते हैं कि इस मुद्दे पर ध्यान दें और अपने देशों में आतंकवाद से लड़ने के लिए कानून लाएं.

आतंक रोको वरना मरो !

वेंकैया नायडू ने कहा कि भारत बहुत पहले से आतंकवाद का शिकार रहा है लेकिन दुनिया ने इस पीड़ा का अनुभव कभी नहीं किया. जब अमेरिका, यूरोप और लगभग हर देश में आतंकवादी हमले होने लगे, तब जाकर उन्हें इस पीड़ा का अनुभव हुआ.

मैं कहता हूँ कि आतंकवाद मानवता का दुश्मन है इसलिए इसे बिना दया दिखाए कुचल देना चाहिए, आतंकवाद को हर तरह से कुचलना चाहिए, इसे कानूनी रूप से, राजनीतिक रूप से और प्रशासनिक रूप से ख़त्म कर देना चाहिए, साथ ही लोगों को आतंकवाद के खिलाफ जागरूक भी किया जाना चाहिए.




नायडू ने कश्मीर में आतंकियों का समर्थन करने वाले नेताओं की बोलती करके रख दी. पीएम मोदी ने तो पहले ही सख्त रुख अपनाया हुआ है और सेना को सफाया करने के आदेश दिए हुए हैं.

अब राष्ट्रपति और उप-राष्ट्रपति ने भी आतंकवाद को लेकर अपना सख्त रुख दिखा दिया. वहीँ सुप्रीम कोर्ट ने भी पेलेट गन के खिलाफ याचिका करने वालों से कह दिया है कि पहले आतंक बंद करो वरना कोई बात-वात नहीं की जायेगी, सीधा ठोका जाएगा.

loading…


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *