ममता बैनर्जी और कांग्रेस के बीच शुरू हुई ज़बरदस्त जूतम-पैजात, राहुल गाँधी के पीएम बनने के सपने टूटे

नई दिल्ली : 2019 लोकसभा चुनाव के लिए मोदी सरकार के खिलाफ अब पूरे देश की विपक्षी पार्टियों ने महागठबंधन बनाने का अभी से तय कर लिया है. अभी तो चुनाव में वक़्त है लेकिन अभी से इस महागठबंधन में बहुत बड़ी दरार बन गयी है. ममता ने राहुल गाँधी को पीएम का दर्जा देने से मना कर दिया है. तो वहीँ अब अवैध बांग्लादेशी के NRC मुद्दे पर ममता बैनर्जी और कांग्रेस में ज़बरदस्त जूतम-पैजात शुरू हो गयी है.

 

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक ममता बैनर्जी ने NRC का विरोध करके अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली है. उनकी अपनी ही पार्टी तृणमूल कांग्रेस में अब ममता का विरोध होने लगा है. सांसदों का मानना है कि ममता की वजह से पार्टी को बहुत नुकसान झेलना पड़ रहा है. यही वजह है कि असम TMC के अध्यक्ष समेत दो और नेताओं ने इस्तीफा दे दिया है. कई जगह पर ममता के पुतले फूंकने की भी खबरें सामने आ रही हैं.
मोदी जी के यूट्यूब चैनल को SUBSCRIBE करें

लेकिन ये तो कुछ भी नहीं अब तो खुद कांग्रेस नेताओं ने भी इस मुद्दे में ममता बैनर्जी के खिलाफ विद्रोह छेड़ दिया है. जिसके बाद राहुल का 2019 के महागठबंधन के सारे सपनों पर पानी फिर गया है. सबसे पहले राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (NRC) के मसले को लेकर पश्चिम बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी को अवसरवादी नेता और आदमखोर करार दिया है.

उन्होंने कहा कि साल 2005 में बांग्लादेशी घुसपैठियों को समस्या बताने वाली ममता बनर्जी आज राजनीतिक फायदे के लिए एनआरसी का विरोध कर रही हैं. कांग्रेस सांसद ने कहा कि दिल्ली में ममता बनर्जी कांग्रेस का समर्थन मांगती हैं और बंगाल में आदमखोर की तरह कांग्रेस को खा रही हैं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर राज्य कांग्रेस के प्रमुख अधीर रंजन चौधरी जमकर बरसे हैं.

एनआरसी विवाद को लेकर कांग्रेस सांसद ने कहा, ‘ममता बनर्जी अवसरवादी नेता हैं. उन्होंने साल 2005 में बांग्लादेशी मुद्दा उठाया, क्योंकि तब इससे सीपीएम को फायदा मिलता था, लेकिन अब इससे उनको (ममता) फायदा मिलता दिख रहा है. लिहाजा अब वो एनआरसी का विरोध कर रही हैं.’

loading…



मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने सीएम ममता को गिरगिट, तानाशाह और ट्रोजन हॉर्स (अंतरघात करने वाला व्यक्ति) बताया है.चौधरी ने इसके साथ ही आरोप लगाया है कि ममता प्रधानमंत्री पद के पीछे पड़ी हुई हैं.

चौधरी ने बताया, “उनका (सीएम) इकलौता उद्देश्य देश की प्रधानमंत्री बनना है। वह पीएम पद के पीछे हाथ धोकर पड़ी हैं। उनके दिमाग में देवगौड़ा सिंड्रोम और गुजराल सिंड्रोम है।” आगे आरोप लगाते हुए वह बोले कि सीएम एक तरफ तो बंगाल में कांग्रेस का खात्मा करना चाहती हैं। वहीं, दूसरी ओर वह आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी का समर्थन पाने की उम्मीद भी लगाए बैठी हैं.

बकौल प.बंगाल कांग्रेस प्रमुख, “वह (ममता) गिरगिट हैं, जो कि अपने रंग बदलता रहता है। वह अविश्वसनीय और अप्रत्याशित राजनेता हैं। ऐसे में कांग्रेस और अन्य पार्टियों के नेताओं को उन पर कतई भरोसा नहीं करना चाहिए।”

यही नहीं उनका कहना है कि ममता तानाशाह भी हैं, जो अब फीमेल मॉन्क (साध्वी) बनने के प्रयास कर रही हैं। कांग्रेस वोट न कर पाए और चुनाव में दावेदारी न पेश कर सके, इसके लिए वह पुरजोर कोशिशें कर रही हैं। इसके अलावा कांग्रेस के नेताओं को जेल भिजवाया जा रहा है। ऐसे में लगता है कि बंगाल में राजनीति करना अपराध है।
मोदी जी के यूट्यूब चैनल को SUBSCRIBE करें

बता दें बंगाल कांग्रेस प्रमुख की यह टिप्पणी तब आई है, जिससे ठीक पहले ममता ने नई दिल्ली में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं से मुलाकात की थीं। वह उस दौरान कांग्रेस की पूर्व सर्वेसर्वा सोनिया गांधी और पार्टी के वर्तमान अध्यक्ष राहुल गांधी से मिली थीं.

loading…


admin Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.