राहुल के मानसरोवर यात्रा पर निकलते ही दामाद वाड्रा पर टूटा मोदी कहर, जीजा जी का ऐसा हाल देख रोने लगे कांग्रेसी

नई दिल्ली : कांग्रेस सरकार ने अपने दस साल के कार्यकाल में देश को भ्रष्टाचार और घोटाले के सिवा कुछ नहीं दिया. कांग्रेस में रसूख और अपने रिश्तेदारों को किस तरह फायदा पहुंचाया ये अब जनता के सामने खुल कर सामने आने लगा है. इसमें सबसे पहला नंबर तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के जीजा रॉबर्ट वाड्रा है. लेकिन एक एक करके सभी भ्रष्टाचारियों का अब नंबर लगना शुरू हो गया है, लालू के बाद अब जा कर वाड्रा के खिलाफ बड़ा एक्शन लिया गया है.

 

राहुल के देश छोड़ते ही जीजा वाड्रा पर टूटा मोदी सरकार का कहर

अभी मिल रही बहुत बड़ी खबर के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के जीजा रॉबर्ट वाड्रा और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की मुश्किलें बढ़ गई हैं. गुरुग्राम के खेड़की दौला में जमीन खरीद मामले में रॉबर्ट वाड्रा व भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खिलाफ एक और FIR दर्ज की गई है. एफआईआर में आरोप लगाया गया है कि रॉबर्ट वाड्रा ने अपने राजनीतिक रसूख और भूपेंद्र सिंह हुड्डा के साथ मिलकर इस घोटाले को अंजाम दिया. इसके अलावा, वाड्रा की कंपनी डीएलएफ और ओमकारेश्वर प्रॉपर्टीज के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गयी है.

उन दोनों पर एफआईआर भारतीय दंड संहिता की धारा-420, 120बी, 467, 468 और 471 के तहत दर्ज की गयी. इसके अलावा, प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट 1988 की धारा 13 के तहत भी कार्रवाई की गयी है. एफआईआर के मुताबिक, मामले में 350 एकड़ जमीन 58 करोड़ रुपये में रॉबर्ट वाड्रा की कंपनी डीएलएफ और स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी को आवंटित की गयी थी. इस जमीन का आवंटन भूपेंद्र सिंह हु़ड्डा के जरिये किया गया था.

कांग्रेसी नेताओं की उड़ी रातों की नींद

तो वहीँ अब इस करवाई को कांग्रेस ने बदले की कार्रवाई बता दिया है और रोबर्ट वाड्रा ने इसे चुनावी फायदा बता दिया है. कांग्रेस का रवैय्या लोगों को समझ में नहीं आ रहा है. पहले कांग्रेस कहती है, हमने कुछ गलत किया है, भ्रष्टाचार किया है तो हमारे खिलाफ कार्रवाई करो,सिर्फ बोलबच्चन क्यों करते हो? अब जब बीजेपी कार्रवाई कर रही है तो कांग्रेसी कह रहे हैं , नहीं ये तो बदले की कार्रवाई है, ये तो निजी दुश्मनी है.

कांग्रेस नेता अल्वी ने सवाल किया कि क्या हिंदुस्तान के अंदर जितना विपक्ष है, वो सब बेइमान है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सांसदों को पकड़ा जा रहा है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को जेल में रखा जा रहा है, बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती और कांग्रेस के नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. उन्होंने पूछा कि क्या बीजेपी के सभी नेता दूध के धुले हैं. उनके खिलाफ क्यों कार्रवाई नहीं होती है? इसका मतलब कांग्रेस मानती है कि लालू यादव चारा चोर नहीं बल्कि ईमानदार है.

एफआईआर में कहा गया है कि इस जमीन से दोनों कंपनियों को करीब पांच हजार करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाया गया. इसके अलावा, ओंकारेश्वर प्रॉपर्टीज के भी मामले में शामिल होने के आरोप हैं. इसके अलावा, इन कंपनियों के जो लाइसेंस दिखाये गये, उनमें भी अनियमितता पायी गयी है. इससे पहले, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा पर इनकम टैक्स विभाग ने 42 करोड़ रुपये के अज्ञात आय के मामले में नोटिस दिया था. यह मामला स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी से जुड़ा हुआ था और इस कंपनी के मालिक राहुल के जीजा वाड्रा ही हैं.


ipc

इससे पहले हाईकोर्ट ने भी वाड्रा को तगड़ा झटका दिया था. वाड्रा ने इस मामले को पहले हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. दोनों ही जगह उनकी मांग खारिज कर दी गयी थी. वाड्रा ने इनकम टैक्स के नोटिस को यह कहते हुए चुनौती दी थी कि उनकी कंपनी लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप में थी, जबकि आयकर विभाग के नोटिस में इसे प्राइवेट लिमिटेड पार्टनरशिप बताया गया था.

इससे पहले पिछले साल प्रवर्तन निदेशालय ने इस मामले में दो लोगों जयप्रकाश बागरवा और अशोक कुमार को गिरफ्तार भी किया था. अशोक कुमार स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी प्राइवेट लिमिटेड के महेश नागर का करीबी सहयोगी है. दोनों को धन शोधन रोकथाम कानून पीएमएलए के तहत गिरफ्तार किया गया था.

आरोप है कि स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी फर्म कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा से जुड़ी है. एजेंसी ने पिछले साल अप्रैल में कुमार और नागर के परिसरों की तलाशी ली थी. ऐसा कहा जाता है कि इस फर्म द्वारा बीकानेर में जमीन खरीद के चार मामलों में आधिकारिक प्रतिनिधि नागर ही था.

इस केस को लेकर बीजेपी ने वाड्रा पर निशाना भी साधा। दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने वाड्रा पर हमला किया और कहा, ‘अब लिबरल्स कंफ्यूज हैं कि वे अर्बन नक्सल को बचाए या जीजा जी को।’ वहीं बीजेपी नेता जवाहर यादव ने कहा कि यह व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है, यह भ्रष्टाचार के खिलाफ उनकी सामूहिक लड़ाई है। राज्य और केंद्र में बीजेपी सरकार किसी भी कीमत पर भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं कर सकती है

 

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

loading…


ज़रूर पढ़े:  कांग्रेस के भारत बंद आंदोलन में वही हुआ जिसका सभी को डर था, लोगों ने कहा इसके लिए राहुल ज़िम्मेदार, परिजनों का रो रो कर बुरा हाल

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*