कश्मीर में सेना का धमाकेदार एक्शन, पूरा युद्ध लड़ने की तयारी कर रखी थी, पत्रकार कनेक्शन देख दंग रह गये सेना चीफ

नई दिल्ली : कश्मीर में आये दिन आतंकवादियों का सफाया हो रहा है. सेना के मिशन आल आउट को ज़बरदस्त कामयाबी मिल रही है. अभी दो दिन पहले ही 15 लाख इनामी हिज़्बुल का टॉप कमांडर अल्ताफ कचरू समेत दो आतंकवादियों को जवानों ने मार गिराया था. उसके बाद एक बार फिर अभी सेना ने कश्मीर में धमाकेदार कार्रवाई करी है लेकिन इस बार पत्रकारिता और आतंकवाद का बड़ा ही हैरतअंगेज़ कनेक्शन का खुलासा हुआ है.

 

कश्मीर में सेना की धमाकेदार कार्रवाई

अभी मिल रही बहुत बड़ी खबर के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा जिले में सुरक्षाबलों ने बड़ा ऑपरेशन चलकर एनकाउंटर में तीन आतंकवादी को मार गिराया है. मुठभेड़ में एक जवान घायल हुआ है. आतंकियों के पास से बहुत ज़्यादा मात्रा में हथियार व गोला-बारूद बरामद हुए हैं. ऐसा लग रहा था जैसे ये आतंकवादियों ने पूरा युद्ध लड़ने जैसा हथियारों का भंडार बना रखा था.

सेना ने अभी भी ऑपरेशन चलाया हुआ है और कई और आतंकवादी को घेरने की भी खबर सामने आ रही है. जल्द ही और आतंकी के मारे जाने की खबर आ सकती है. पूरे इलाके में बम धमाकों ने आतंकवादियों के कान सुन्न कर दिए हैं, गोलियों की ऐसी ज़ोरदार बारिश देख पत्थरबाजों का निकलना नहीं हो पा रहा है.

पूरे युद्ध की तैयारी कर रखी थी

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उत्तर कश्मीर के बांदीपोरा में शनिवार की दोपहर सुरक्षाबलों को आतंकियो के छिपे होने की सूचना मिली थी. सूचना के बाद सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया और सर्च अभियान शुरू कर दिया। खुद को घिरता देख आतंकियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बना फायरिंग शुरू कर दी। इसके जवाब ने सुरक्षाबलों ने भी जवाबी कार्रवाई की। इस मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए। इसके बाद तलाशी के दौरान सुरक्षाबलों को कुछ ऐसे हथियार मिले हैं, जिनका इस्तेमाल युद्ध में होता है.

पत्रकारिता का आतंकी चेहरा आया खुलके सामने

अक्सर देखा जाता है कि आतंकवादियों की सूचना कोई गिरफ्त में आया आतंकवादी ही देता है, सेना रिमांड रूम में सब उगलवा ही लेती है
लेकिन इस बार किसी आतंकवादी ने नहीं बल्कि पत्रकार ने इन आतंकवादियों की सुचना दी थी क्यूंकि ये पत्रकार खुद आतंकवादियों के साथ मिला हुआ था और उनको ज़रूरी जानकारियां दिया करता था. जैसे सेना का काफिला कहाँ से जा रहा है जिसके बाद आतंकी घात लगाकर ग्रेनेड से हमला बोलते थे. हमने कई जवानों को ऐसे ही हमले में खोया है.

tweet

 

जम्मू-कश्मीर के एक पुलिस अधिकारी ने मीडिया से बातचीत में बताया “बीते दिन एक स्थानीय पत्रकार आसिफ सुल्तान को गिरफ्तार किया गया था। उसकी निशानदेही पर कई जगहों से संदिग्ध सामान बरामद किए गए। उसने आतंकवादियों के साथ अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। आगे की जांच जारी है।”

बताइये कुछ महीने पहले एक “द राइज़िंग कश्मीर ” अख़बार के पत्रकार को कई आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी. तब पूरे देश में हंगामा मच गया था, मोमबत्ती गैंग, अवार्ड वापसी गैंग , समेत सारा मीडिया जगत आंसू बहाने लगा था और दूसरी तरह एक ये पत्रकार है जो आतंकवादियों का मददगार है. ये पत्रकार सेना के जवानों के काफिले की, ऑपरेशन की, और अन्य गुप्त सूचनाएं आतंकवादियों को देता था. अब इस पत्रकार के खिलाफ कोई सामने निकल कर नहीं आ रहा है.

मोदी सरकार ने 30 न्यूज़ चैनल पर लगाया प्रतिबंध

कश्मीर में इन पत्रकारों को आप लोग कम मत समझियेगा. जब से मोदी सरकार ने 30 से ज़्यादा न्यूज़ चैनल और कई अख़बारों पर पाकिस्तान और कट्टरपंथ का समर्थक होने के चलते प्रतिबन्ध लगाया है तब से इन पत्रकारों ने अपना असली रंग दिखा दिया है. पहले ये पत्रकारिता के मुखौटे के पीछे छुपे हुए आतंकवादी थे और अब सेना की रिमांड रूम में खुल कर कबूल कर रहे हैं कि ये भी आतंकवादी से मिले हुए हैं.

बता दें कि इन दिनों सुरक्षाबल लगातार आतंकियों के सफाए में जुटे हैं। आए दिन सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हो रही है। इससे पहले गुरुवार (30 अगस्त) को जम्मू-कश्मीर के हाजिन इलाके में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया था। बीते बुधवार (29 अगस्त) को भी सुरक्षाबलों ने अनंतनाग सेक्टर के मुनवर्ड इलाके में घेरबंदी कर दो आतंकियों को ढेर कर दिया था। मारे गए आतंकियों में एक हिजबुल मुजाहिद्दीन का टॉप कमांडर अल्ताफ कचरु शामिल था.

 

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

loading…


ज़रूर पढ़े:  ब्लास्ट के आतंकी को सांसद बनाने की चल रही थी साजिश, सुप्रीम कोर्ट ने फेरा जिहादियों के मंसूबों पर पानी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*