योगी राज में एक साथ इतने सारे मुस्लिमों ने कट्टरपंथियों के खिलाफ उठाया सबसे बड़ा कदम, हिन्दू संगठन ने किया स्वागत, ओवैसी के छूटे पसीने

नई दिल्ली : उत्तरप्रदेश में अब मुस्लिम लोगों को भी सत्य और असत्य में फर्क दिखना शुरू हो गया है. उन्हें पता चल गया है कि कौन धर्म के नाम पर उनका शोषण कर रहा है. ऐसे में अब खुद इन लोगों ने कट्टरपंथ के खिलाफ आवाज़ उठाते हुए घर वापसी कर खुद अपनी मर्ज़ी से बड़ा कदम उठाया है.

 

अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक यूपी बागपत में मुस्लिम परिवार के 20 लोगों ने एसडीएम, बढ़ौत को एफिडेविट देकर स्वेच्छा से इस्लाम धर्म को छोड़ कर हिंदू धर्म अपनाने की मांग की है. मामला छपरौली थाना इलाके के बदरखा गांव का है। बताया जा रहा है कि हिंदू संगठन के लोग रीति-रिवाजों के साथ इनका नामकरण करवाएंगे.

हम इस समाज में रह कर क्या करें?

धर्म परिवर्तन करने की तैयारी कर रहे एक व्यक्ति का कहना है, “निवाड़ा गांव में हमारे एक 22 साल के भाई की हत्या कर उसे लटका दिया गया था। इसके बाद सुबह कुछ लोग आए और कहने लगे कि इसकी हत्या तुमने ही की है। बचना है तो जल्दी से इसे दफनाओ। इसके बाद कब्र खोदकर दफनाने की तैयारी कर दी थी। वहां करीब3000 मुसलमान होंगे लेकिन किसी ने हमारा साथ नहीं दिया। जब किसी मुसलमान ने हमारा साथ ही नहीं दिया तो फिर हम इस समाज में रह कर क्या करें?”

हिंदू धर्म के लोग हमारी मदद कर रहे हैं

वहीँ एक दूसरे मुस्लिम व्यक्ति ने कहा “हिंदू धर्म के लोग हमारी मदद कर रहे हैं। कोर्ट-कचहरी में भी ये सहायता कर रहे हैं। हमें कोई न्याय नहीं मिला। पोस्टमार्टम भी उल्टा सीधा करवा दिया गया। हत्या के मामले को अत्महत्या बता दिया गया।” हिंदू संगठन के एक कार्यकर्ता का कहना है कि, “किसी के साथ यदि मुस्लिम समाज में उत्पीड़न होता है तो हम अपने भाईयों को गले लगाने को तैयार हैं। पूरा साथ देने को तैयार हैं।”

दरअसल मामला छपरौली थाना क्षेत्र के बदरखा गांव का है जहां गांव के ही रहने वाले अख्तर अली अपने परिवार के साथ अपनी एक रिस्तेदारी कोतवाली बागपत क्षेत्र निवाड़ा गांव में रहता था और उनका बेटा कपड़े का व्यापार करता था और जुलाई माह में उनके बेटे गुलहशन अली का शव उनकी ही दुकान में खूंटी पर लटका हुआ मिला था. परिजनों का आरोप था कि मुस्लिम समाज के ही कुछ दबंगो ने उसकी हत्या करने के बाद शव को खूंटी पर लटका दिया था.


बदरखा गांव के अख्तर अली ओर उनके परिवार का कहना है कि इस्लाम धर्म मे रहकर हम अपने बेटे को न्याय नही दिला सकते क्योंकि मुस्लिम धर्म के दबंगो ने ही हमारे बेटे की हत्या की है और अभी भी पूरे परिवार का जीना मुहाल कर रखा है आरोपी दबंग आये दिन अब दबंग परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे है जिसकी दहशत में पीड़ितों ने अपना गांव छोड़ दिया है जिसके तहत उन्होंने इस्लाम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म अपना लिया है क्योंकि उन्हें हिन्दू धर्म मे ही रहकर न्याय मिल सकता है जिसके चलते परिवार के 20 लोगो ने आज बड़ौत एसडीएम को एफिडेविट देकर हिन्दू धर्म अपनाने की मांग की है.

पीड़ित मुस्लिम परिवार के 20 लोगों के धर्म परिवर्तन कर लेने के मामले को लेकर हिन्दू संगठन के कार्यकर्ता भी मौके पर पहुंचे और सभी लोगो को अपने गले लगाकर उनका हिन्दू धर्म मे स्वागत किया है और हिन्दू युवा भारत संगठन के तत्वावधान में कल छपरौली थाना क्षेत्र के बदरखा गांव में हवन यज्ञ कर हिन्दू रीति रिवाज के साथ सभी का नामकरण करने का एलान किया है.

ये खबर सुन ओवैसी समेत कई कट्टरपंथियों के पेट में ज़बरदस्त दर्द उठने लगा है. आखिरकार अब लोगों की आखें खुल रही है कि कहाँ उनका इस्तेमाल किया जा रहा है और कौन मुसीबत में उनके साथ कंधे से कन्धा मिलकर खड़ा है.

 

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

शेयर करें
  • 362
    Shares
ज़रूर पढ़े:  राजनाथ के बाद BSF डीजी ने पाकिस्तान पर धमाकेदार हमले का किया खुलासा, भारत पाक सीमा पर तनाव, सन्न रह गयी पाक फ़ौज

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*